Saturday, December 3, 2011

देखो पुस रहो खुश

फिल्मः पुस इन बूट्स (थ्रीडी)
निर्देशकः क्रिस मिलर
वॉयसओवरः एंटोनियो बेंडारेस, सलमा हायेक, जैक गैलिफियानकस
स्टारः तीन, 3.0

एंटोनियो बेंडारेस स्पेनिश एक्टर हैं। अमेरिकी फिल्मों में ह्यूमर से भरी हीरोइक और छलिया किस्म की उनकी आइडेंटिटी सही मायनों में मार्टिन कैंपबेल की फिल्म ' मास्क ऑफ जोरो से बनी थी। हमारा पुस भी एंटोनियो टच वाले जोरो जैसा ही है। तिरछी टोपी, कमर में तलवार, पैरों में लंबे बूट, जबान पर हीरो वाले डायलॉग, चाल में एटिट्यूड, दिल में दूसरों की भलाई और बहुत सारी बहादुरी। मगर उसके हीरोइज्म में भी जो आम बिल्ला होने की मौलिकता है, वो फिल्म को खास बनाती है। इतने स्टंट करता है, लेकिन दूध का पैग लेता है, उसे जीभ से लपर-लपर पीता है। गली में ऊपर खिड़की में बैठकर किटी रोशनी फैंकती है और पुस अपनी मर्दानी पर्सनैलिटी भूलकर किसी औसत बिल्ली की तरह उसे पंजों से पकडऩे की कोशिश करता है। छुटपन में अनाथालय में हर सवाल के जवाब में उसका माऊं बोलना और बड़ा होने पर भी गिरना-पडऩा-गुर्राना ठीक वैसे ही है जैसे जैकी चेन का एक्शन करते हुए ह्यूमर क्रिएट करना या गिरने पर दर्द महसूस करना और सी-सी करना है। या फिर उम्र में मैच्योर होने के बाद भी 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ के जेठालाल का अपने बापूजी के सामने बच्चे की तरह कातर नजरों के साथ डांट खाना है। अगर ये बॉलीवुड की फिल्म होती तो एक बिल्ली के तौर पर पुस की कमजोरियों को भी हीरोइक बनाने की कोशिश होती।
खैर, फिल्म में मुलायम पंजों वाली किटी और पुस की रोमैंटिक जोड़ी सलमा हायेक और एंटोनियो के जाने-पहचाने वॉयसओवर से भी और बेहतर होती है। 'पुस इन बूट्स’ उतनी उम्दा नहीं है जितनी बीते इन दिनों में आई थ्रीडी मूवीज रही हैं। पर फिल्म औसत से अच्छी है। शुरू में बोलने वाले अंडे हम्पटी डम्पटी की एंट्री कुछ मजेदार नहीं लगती। बाद में हमें कुछ एडजस्ट करना पड़ता है। दूसरा ये कहानी भी एनिमेशन मूवीज के हिसाब से कुछ जटिल है। हमें 'श्रेक 2’ वाले पुस की पिछली जिंदगी को इस प्रीक्वल में किसी फ्लैशबैक की तरह देखना होता है। उसमें भी हम्पटी-डम्पटी के साथ उसकी दोस्ती क्यों टूटती है, पुस कहां से आया है, ये सब भी फ्लैशबैक में चलता है। बच्चों की तो इन दिनों हर थ्रीडी मूवी से चांदी हो रखी है। ये फिल्म भी उन्हें देखनी चाहिए। मजा आएगा। चूंकि ये एक अच्छी फिल्म भी है इसलिए हर कोई देख सकता है।

भूरे बिल्ले पुस की कहानी
जूतों वाले भूरे बिल्ले पुस (एंटोनियो बेंडारेस) पर मोटा ईनाम है। वह भगौड़ा घोषित है। भागकर वह एक कस्बे में पहुंचता है। यहां उसे पता चलता है कि जिन जादुई बीजों की तलाश वह ताउम्र कर रहा था वो बदमाश कपल जैक (बिली बॉब थोर्नटन) और उसकी वाइफ जिल (एमी सेडारिस) के पास है। इन बीजों के बारे में कहा जाता है कि इनसे उगने वाला पेड़ आसमान तक बढ़ जाता है और वहां ऊपर एक महल में सोने के अंडे देने वाला हंस रहता है। पुस जैक एंड जिल के कमरे से ये बीज चोरी करे उससे पहले वहां एक मास्क वाली बिल्ली किटी सॉफ्टपॉज (सलमा हायेक) पहुंच जाती है। पर दोनों के झगड़े में चोरी नहीं हो पाती। पुस किटी का पीछा करता है। कुछ तकरार के बाद वहां उसे अपने बचपन का अनाथालय का दोस्त हम्पटी एलेग्जेंडर डम्पटी (जैक गेलिफियानकस) मिलता है। हम्पटी एक बोलने वाला अंडा है और बरसों पहले पुस और उसकी दोस्ती टूट गई थी। खैर, कहानी में अब तय ये होना है कि क्या पुस हम्पटी पर भरोसा करके जादुई बीजों को हासिल करने में उसका साथ देगा? क्या पुस की किटी के साथ होती तकरार प्यार में बदलेगी? क्या उस पर लगा भगौड़े का लांछन मिट पाएगा?**************
गजेंद्र
सिंह भाटी