Saturday, December 10, 2011

मकबूल की बनाई चुस्त लंका

फिल्मः लंका
निर्देशकः मकबूल खान
कास्टः मनोज बाजपेयी, अर्जन बाजवा, टिया बाजपेयी, यशपाल शर्मा, मनीष चौधरी
सर्टिफिकेटः ए (एडल्ट)
स्टारः तीन, 3.0

'लंका माइंडब्लोइंग फिल्म नहीं है। मगर मनोज, टिया और अर्जन को लेकर इससे बेहतर फिल्म नहीं बन सकती थी। इस सब्जेक्ट से मिलती-जुलती फिल्म तिग्मांशु धूलिया की 'साहब, बीवी और गैंगस्टर भी थी। ऐसे में स्क्रिप्ट के स्तर पर कुछ भी बासी होता तो, लंका लुट जाती। पर मकबूल खान का डायरेक्शन, चीजों को रियल रखने की जिद और औसत से अच्छे डायलॉग फिल्म को चुस्त और हमें फ्रैश रखते हैं। पुलिस ऑफिसर भूप सिंह बने यशपाल शर्मा और सीआईडी लखनऊ के ऑफिसर बने मनीष चौधरी भी इसमें जान फूंकते जाते हैं। एंटरटेनमेंट को लेकर कोई दावे नहीं करूंगा, पर कोशिश ईमानदार और मेहनतभरी रही है। टिया बाजपेयी शुरू में अपने किरदार को स्थापित करते वक्त बेहद कमजोर एक्टिंग करती हैं और बाद में रोल ही स्लो हो जाता है। मनोज के लुक्स और अंदाज में वो भाईसाहब वाला डर और लाचारी दोनों है। अर्जन रोल में फिट लगते हैं, करियर के सबसे नेचरल रोल में। सिनेमा फैन्स जरूर देखें। एक-दो खूनी सीन्स के लिए फिल्म को 'ए’ सर्टिफिकेट मिला है। नो प्रॉब्लम।

भाई साहब की लंका
अजीब मिजाज का शहर है ये बिजनौर। इस लंका के रावण हैं जसवंत सिसोदिया यानी भाई साहब (मनोज बाजपेयी)। यहां की क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव हैं और पॉलिटिकल प्रभाव रखते हैं। दूसरे लफ्जों में कहें तो रसूखदार गुंडे हैं। तभी तो बिजनौर के चीफ मेडिकल ऑफिसर की बेटी अंजू (टिया बाजपेयी) को उसके ही घर में अपनी बिन ब्याही बना रखा है। कहानी में और बिजनौर में एक दिन जसवंत के चचेरे भाई (अर्जन बाजवा) की एंट्री होती है, जो बरसों पहले भाईसाहब का अपमान करने पर एक पुलिसवाले के सिर पर बैट मारकर भाग गया था। वह भाईसाहब से प्यार करता है, पर जब अंजू को देखता है तो दुविधा में फंसता है। गलत होते हुए भी भाईसाहब का साथ दे या अंजू की मदद करे?

मिंट की डली से डायलॉग
# आप मुख्यमंत्री जी से कह दो। या तो पानी आधा-आधा हो या फिर बिजनौर के बाहर से ही नहर निकालकर ले जाए।
# कप्तान हूं जिले का, अब क्या करूं, आप तो घास नहीं डालते।
अबे तू कोई गधा है जो घास डालूं।
# अंटी जी, चा शा नहीं पिलाएंगी?
# ये लड़का नहीं है सांड है, नकेल डालकर रखो।
अरे नकेल डाल के रखा तो खेत का बैल बन जाएगा। इसे तो छुट्टा सांड ही रखना है।
# पढऩे-लिखने से आता है धीरज। और धीरज सिखाता है सही वक्त का चुनाव करना। टाइम तो आण दे।
# जीने के लिए हिम्मत चाहिए होती है, मरने के लिए नहीं।
# याद रखो डाक साब। अगर अंजू मेरी न हुई तो मैं उसे दुनिया की कर दूंगा। उसे हर बाजार में बेचूंगा, हर चौक में बेचूंगा। और बेचता रहूंगा, बेचता रहूंगा, बेचता रहूंगा। जब तक उसकी सांसें बंद न हो जाएं।

मकबूल ने चुने जो ताजा तत्व
# टिया के मेडिकल ऑफिसर पिता का लाल-पीले रंग का सरकारी क्वार्टर।
# अर्जन बाजवा का बस से उतरकर, रिक्शे में बैठ, बिजनौर की सड़कों और ट्रैफिक में घुसते जाना।
# अंजू का डॉक्टरी का एग्जैम सेंटर, एक पुराना सा टूटा राजीव गांधी स्कूल।
# जसवंत भाईसाहब की गाड़ी के आगे लगी 'सिसोदिया’ लिखी जंग खाई नेमप्लेट।
# भूप सिंह का जान बचाने के लिए छिछली सी नदी के बीच से दौड़ते हुए आना।

'बैंडिट क्वीनके उस सीन को आदरांजलि...
जसवंत और उसके आदमियों का गांव के मोहल्ले और हर एक घर में घुसकर दुश्मनों को मारना खास सीन है। यहां कैमरा 380 डिग्री घूमता है। ये हूबहू 'बैंडिट क्वीन’ के उस सीन से प्रेरित है जिसमें फूलन और डाकू उस मुहल्ले के हर एक घर में घुसते हैं, जहां के कुएं पर उसके कपड़े उतारे गए थे। एक बातचीत में डायरेक्टर मकबूल खान ने खुद बताया था कि धौलपुर में 'बैंडिट क्वीन’ की शूटिंग वो स्कूल से भागकर देखने जाया करते थे। उसमें मनोज बाजपेयी भी थे।****************
गजेंद्र सिंह भाटी