Friday, October 28, 2011

जी.वन सुपरहीरो के एग्जाम में फेल

फिल्मः रा.वन
निर्देशकः अनुभव सिन्हा
कास्टः शाहरुख खान, करीना कपूर, अरमान वर्मा, अर्जुन रामपाल, शहाना गोस्वामी, दिलीप ताहिल, टॉम वू
स्टारः ढाई, 2.5


रा.वन को देख पाना आसान नहीं है। एक ऐसे दौर पर जब आपके पास दर्जनों बेहतरीन सुपरहीरो मूवीज हैं, आप एक रा.वन को सिर्फ इसलिए नहीं झेल सकते कि उसे मेहनत से बनाया गया है और वह बड़ी महंगी है। फिल्म में विजुअल इफेक्ट्स (वीएफएक्स) को छोड़कर कुछ भी न तो मौलिक लगता है और न ही मनमोहक। प्रतीक और सोनिया का शेखर या जी.वन से रिश्ता ऊपर-ऊपर से निकल जाता है। जी.वन के दिल की जगह लगा हार्ट (एच.ए.आर.टी) धड़कने लगता है पर इस फिल्म से न हमारा हार्ट धड़कता है न आंखों में नरमी आती है। क्यों बोले मौसे मोहन... गाना जब आता है तो शायद पहली और आखिर बार हम इमोशनली मूव होने को होते हैं। बस, उसके अलावा कुछ नहीं। फिल्म को देख पाना मुश्किल इसलिए है क्योंकि साउथ इंडियन के किरदार में शाहरुख पकाते हैं, करीना गालियां बकते हुए रा.वन की सोनिया तो नहीं लग पाती। हां, जब वी मेट की गीत जरूर लगती हैं। क्लाइमैक्स तक ऐसा लगता है जैसे बच्चे प्रतीक का दिल पत्थर का है। पिता के मरने के सदमे से वह चुटकियों में उबर जाता है। कहानी में कहानी जैसा कुछ भी नहीं है। कहां, क्या हो रहा है उसमें पर्याप्त लॉजिक नहीं है। गेमिंग की दुनिया से एक विलेन अपना गेम पूरा करने आया है और जी.वन उससे सामना करता है... ये बड़ा ही फनी है। सुपरहीरो वो नहीं होता जो ऐसी बचकानी वजह से अस्तित्व में आता है, बल्कि वो जो किसी कॉज या बड़े इश्यू के लिए लड़ता है। अगर आपके पास कोई दूसरा ऑप्शन है तो बिलाशक उसे ही ट्राई करिए, रा.वन नहीं। बेवजह परेशान हो जाएंगे।

रा.वन की कथा
कहानी शुरू होती है लंदन में बैरन इंडस्ट्रीज की ईमारत से। यहां जेनी (शहाना गोस्वामी) कंपनी की नई गेमिंग खोज के बारे में बता रही है जिसके बाद इंटरनेट की वर्चुअल दुनिया की चीजों को भी देखा और छुआ जा सकेगा। यहां से जंप करके हम आते हैं वीडियो गेम डिवेलपर शेखर सुब्रमण्यम (शाहरुख खान) और उसकी फैमिली पर। वाइफ सोनिया (करीना कपूर) इंडियन गालियों पर थीसिस लिख रही है और बेटा प्रतीक (अरमान वर्मा) वीडियोगेम एक्सपर्ट है। अपने पिता की कम कूल और अग्रेसिव पर्सनैलिटी उसे पसंद नहीं। उसे हीरो की बजाय विलेन ज्यादा पसंद आते हैं। अपने बेटे की चाहत पर शेखर रा.वन नाम से ऐसा वीडियोगेम बनाता है जिसमें विलेन हारे नहीं। लॉन्च पार्टी पर जब सब नाच रहे होते हैं, प्रतीक रा.वन के साथ गेम के दूसरे लेवल पर पहुंच जाता है, पर अधूरा छोड़ चला जाता है। उस गेम को पूरा करने रा.वन वर्चुअल से असली दुनिया में जिंदा होकर आता है।


क्यों मौलिक नहीं जी.वन
# जी.वन स्पाइडरमैन की तरह खास सूट पहनता है।
# अमेरिकी फिल्म आयरन मैन में जो पैलेडियम कोर आयरन मैन और उसके कवच को जिंदा रखता है, वैसा ही दिखने वाला हार्ट जी.वन और रा.वन पहनते हैं।
# फिल्म में जी.वन का एक प्रमुख एक्शन सीक्वेंस ट्रेन पर है, वैसा ही जैसा रजनीकांत की मूवी रोबॉट में था।
# हर मूवी की तरह अंत में जी.वन फिर जिंदा हो जाता है।

इसकी क्या जरूरत थी
# अगर कहानी में दम होता तो दर्शकों का ध्यान बटाने के लिए चिट्टी बने रजनीकांत, खलनायक बने संजय दत्त, मुसीबत में फंसी रानी प्रियंका और एक वीडियोगेम में अमिताभ बच्चन का वॉयसओवर नहीं लाना पड़ता।
#अपने इंट्रोडक्टरी सीन में शेखर बने शाहरुख अपनी छोटी सी पीली कार लेकर ऑफिस के पार्किंग में पहुंचते हैं तो मैं समझ जाता हूं कि गाड़ी पार्क करते वक्त ये ऑलरेडी पार्क्ड गाड़ी को अनजाने में धकेल खुद की गाड़ी पार्क कर देगा। ये सीन मिस्टर बीन सीरिज के ट्रेडमार्क कॉमेडी सीन्स में से है।
# सी यू लेटर एलिगेटर और आई विल बी बैक... जैसे वन लाइनर अमेरिकी फिल्मों से उसी संदर्भ में लिए गए हैं पर ये फिल्म को इनोवेटिव नहीं रहने देते।

आखिर में
रा
.वन बने अर्जुन रामपाल रावण दहन को तैयार पुतले को देखकर कहते हैं, जो एक बार मरता हैसे बार बार मारना नहीं पड़ता। मुझे ये फिल्म का सबसे इम्प्रेसिव और मौलिक डायलॉग लगा। काश ऐसे डायलॉग और होते।

**************

गजेंद्र सिंह भाटी