Wednesday, April 13, 2011

पथैटिक हैं एक्टिंग सिखाने वाली ये दुकानें: ओमपुरी

ओमपुरी के साथ संक्षिप्त बातचीत...

अपनी एक नई फिल्म के प्रचार से सिलसिले में चंडीगढ़ आए हुए थे एक्टर ओमपुरी। उनसे पहली बार आमना-सामना हो रहा था। सफेद बाल, सफेद टी-शर्ट, खराश भरी भारी आवाज और भारी होते शरीर के साथ उनका एक रौबीला स्वरूप भी दिखाई दे रहा था। हालांकि ये कहीं-कहीं नेगेटिव भी हो रहा था, तो कहीं मित्रवत भी, उन्हें मीडियावालों पर गुस्सा आ रहा था, तो सभी लोग सही एंगल से तस्वीरें खींच पाए इसकी चिंता भी। वो किसी नशे में लग रहे थे तो पूरी तरह होश-ओ-हवास में भी। उनके साथ बैठे तनु वेड्स मनु के पप्पी जी यानी एक्टर दीपक डोबरियाल डर से सहम रहे थे तो बाहर से सौम्य होने की कोशिश भी कर रहे थे। मतलब सब कुछ नियंत्रण में होते हुए भी तुरंत बेकाबू हो जाएगा ऐसा लग रहा था। मैंने अपनी बारी का यही कोई चार घंटे इंतजार किया। फिर बात की तो कुछ परेशान होते हुए भी सहज होकर उन्होंने किनारे बैठकर बात की। मगर तब तक मेरी इच्छा नहीं रही। बात करने का इतना उत्साह अब नहीं बचा था। पर ये भी था कि बहुत कुछ पूछना है। तो चार सवाल पूछे। उनके जवाब की कुछ जरूरी बात छूट भी गईं। भीड़-भड़ाके और हड़बड़ाहट के बीच बात टूटी। फिर करीब एक घंटे बाद एक होटल की दूसरी मंजिल पर नाश्ता करते वक्त उनसे आखिरी सवाल पूछा, इसमें कुछ ऑफ द रेकॉर्ड बिंदू भी रहे। फिर उन्हें उठना पड़ा। मिजाज ठीक नहीं थे तो उठकर चल पड़ा। दूसरी मंजिल की लिफ्ट की तरफ जा रहा था कि वो कुछ और मीडियावालों से बातकर सामने आते दिखे। मैंने हाथ मिलाकर कह दिया चलता हूं सर। थैंक यू। इस बार उनकी पकड़ में और चेहरे की मुस्कान में अलग ही अपनत्व लगा। पर उन्हें पांच मिनट में ही आसमान की उड़ान भरनी थी और मुझे सड़क पर उड़ना था। सो, उड़ चले। सोचता हूं किसी दुरूस्त माहौल में पारस्परिक रूचि के साथ उनसे फिर मुलाकात होगी, लंबी बातचीत के लिए। फिलहाल ओमपुरी के साथ ये संक्षिप्त बातचीतः

‘आक्रोश’ और ‘मंडी’ जैसी फिल्मों में आपने काम किया। वहां से आज इतने सालों का सफर तय कर लिया। मैंने देखा है कि अपनी फिल्मों में आप आज भी हर एक सीन में अपना सौ फीसदी देते हैं। आखिर वो क्या चीज है जो आपको इतने साल बाद आज भी ऐसा करने की प्रेरणा देती है या आप कर पाते हैं?
कुछ नहीं, बस इस क्षेत्र और अभिनय की विधा से प्यार है इसलिए ऐसा कर पाता हूं। बाकी बहुत से ऐसे एक्टर हैं जो आज भी दशकों बाद अपने काम को उसी तरह से लिए हुए हैं। इसमें मैं अमिताभ बच्चन की बहुत इज्जत करता हूं। वो मेरे सीनियर हैं और उनके जैसे अपने काम को गंभीरता से लेने वाले इंसान बहुत कम हैं। इस उम्र में भी उसी अनुशासन के साथ काम कर रहे हं। तो मैं भी ऐसे ही कर लेता हूं।

कॉमेडी में फूहड़पन या वल्गैरिटी को आप कैसे लेते हैं। टीवी पर कॉमेडी सर्कस जैसे प्रोग्रैम हैं जिसमें सिर्फ हंसी पैदा करने के लिए एक्टर एक दूसरे को लातें मारते हैं और डबल मीनिंग बातें करते हैं?
मैं इसके बिल्कुल खिलाफ हूं। बल्कि मैं तो ऐसे प्रोग्रैम देखता ही नहीं हूं। ये बहुत ही घटिया और सस्ती कॉमेडी होती है जिसे एक्टिगं तो जोड़कर ही नहीं देखा जाना चाहिए।

कॉमेडी मूवीज तो आपने लगातार बहुत की हैं, अब आने वाले वक्त में क्या आपको सीरियस काम करते हुए भी देखा जा सकेगा?
नहीं यार मैं नहीं समझता हूं कि अब मैं करुंगा। सीरियस सिनेमा में मेरा टाइम बीत चुका है। आई एम ओवर। पर हां, कुछ दूसरी फिल्में कर रहा हूं। इसमें ‘डॉन-2’ है और ‘अग्निपथ-2’ है। बाकी तो कर लिया यार जो करना था।

फिर से सवाल कॉमेडी पर है। आपने तकरीबन हर प्रतिभाशाली निर्देशक के साथ काम किया है। ऐसे में हमारे यहां का बेस्ट डायरेक्टर इसमें आप किसे मानते हैं?
मैं प्रियदर्शन को बहुत काबिल निर्देशक मानता हूं इसमें। फिल्मों और कॉमेडी को लेकर इसमें जो उनकी समझ है उसका कोई मुकाबला नहीं है। जब हम ‘मालामाल वीकली’ की शूटिंग कर रहे थे तो एक सीन के दौरान मैंने उनसे कहा कि आप इस तरीके से भागने और गिरने को कह रहे हैं ये तो बिल्कुल अजीब सा है। रियलिस्टक भी नहीं है और इसका सेंस भी कुछ समझ में नहीं आता। तो उन्होंने अपना मतलब समझाया। उन्होंने कहा कि आप टॉम एंड जैरी की कार्टून मूवी देखिए। इसमें वो बिल्ला चूहे के पीछे भागता है, उसके लगती है, पीटा जाता है खून भी आ जाता है पर लोग हंसते हैं, ठीक वैसे ही हमारी कॉमेडी है। लोग रिलैक्स होने और एंजॉय करने आते हैं। ऐसे में थोड़ा सा खून निकलने और गिरने-पड़ने भागने का मतलब सिर्फ टॉम एंड जैरी के संदर्भ में ही है। तो इस तरह उनकी समझ और उनकी क्षमता काफी ज्यादा है।

प्रियदर्शन की फिल्मों में जो गांव दिखाया जाता है, जो लोग दिखाए जाते हैं उसका असली गांव से कोई वास्ता नहीं होता। इसपर आपका क्या कहना है?
बिल्कुल सही है। उनके गांव से असली गांव बहुत जुदा होते हैं। स्टोरी नॉर्थ ईस्ट के धूप भरे गांवों की होती है और मूवी में साउथ के गांव शूट होते हैं। ये अंतर तो होता है।

जो युवा फिल्मों में आना चाहते हैं, एक्टर बनना चाहते हैं उन्हें आप क्या सलाह देंगे?
बस यही की पूरे पैशन के साथ आएं। लेकिन पहले सबसे जरूरी है कि अपनी पढ़ाई को पूरा करें। याद रखें पहले सिर्फ और सिर्फ अपनी पढ़ाई को पूरा करें। उसके बाद किसी अच्छे इंस्टिट्यूट से इसकी ट्रेनिंग लें। एक्टिंग सिखाने के नाम पर जो ये दुकानें खुल गईं है न, जो लाखों रुपए लेकर तीन महीने में एक्टिंग सिखाने का दावा करती हैं, उनमें बिल्कुल नहीं जाएं। नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (एनएसडी), या एफटीआईआई, पुणे (फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टिट्यूड ऑफ इंडिया) या सत्यजीत रे इंस्टिट्यूड से एक्टिंग सीखें।

मगर जिन एनएसडी, एफटीआईआई और सत्यजीर रे संस्थान का आपने जिक्र किया वो तो बहुत ही थोड़े हैं, इस फील्ड में आने वाले बहुत ज्यादा तो वो कैसे आ पाएंगे। इसके लिए क्या उन्हें एकलव्य बनना पड़ेगा?
नहीं, पर इसका मतलब ये नहीं कि वो इन दुकानों में जाएंगे। मेहनत करो और इन इंस्टिट्यूड में आकर दिखाओ। अगर नहीं आ सकते तो इसका मतलब तुममें एक्टर बनने की क्षमता ही नहीं है।

पर सीटें भी तो बहुत कम हैं?
तो क्या हुआ। उन्हें हासिल करो। मैं चंडीगढ़ में एक बड़े प्राइवेट एक्टिंग इंस्टिट्यूड में गया था। वहां शूटिगं कर रहा था तो मुझसे कहा गया कि आप जाएंगे तो बच्चों का हौसला बढ़ेगा। जब मैं गया तो वहां के बच्चों की एक्टिंग की हालत देखकर मुझसे सहा नहीं गया। आई मीन वो लोग पथैटिक थे। पर वहां आए हुए थे और क्यों तो साब एक्टिगं सीख रहे हैं, लाखों रुपए दिए हैं। तो ये हालत है, मुंबई की भी बाकी दुकानों की, पुणे की भी प्राइवेट दुकानों की। सब बेकार हैं।
गजेंद्र सिंह भाटी