Friday, January 27, 2012

वीजू और कांचा के सम्मोहन वाली अग्निपथ 2.0

फिल्म: अग्निपथ
निर्देशक: करण मल्होत्रा
कास्ट: ऋतिक रोशन, संजय दत्त, ऋषि कपूर, प्रियंका चोपड़ा, जरीना वहाब, अरिश भिवंडीवाला, कनिका तिवारी, ओम पुरी, राजेश टंडन, चेतन पंडित
डायलॉग: पीयूष मिश्रा
स्टार: साढ़े तीन, 3.5
अरसे बाद आई तीन घंटे बांधकर रखने वाली एक हिंदी फिल्म, रगों में दौड़ते लहू को गर्म करती हुई, दिमाग को सहूलियत देती हुई, हमें 'मारो-मारो' कहने वाली भीड़ का हिस्सा बनाती हुई, खुश करती हुई, डराती हुई, एक मसीहा देती हुई, स्मार्ट-सरल-संतुष्ट डायलॉग सुनाती हुई और जिंदगी की हकीकतों से दूर एक झूठी मगर जरूरी फिल्मी दुनिया में ले जाती हुई। कुछ खामियों और धीमेपन के अलावा फिल्म बड़ी दुरुस्त है। जरूर देखें और मसालेदार सपनीले से काव्यात्मक सिनेमा को एंजॉय करें। फिल्म में बहुत सा अपराध और खून-खराबा है इसलिए बच्चों को ये फिल्म दिखाना चाहते हैं कि नहीं ये तय करें।

1990 में करण जौहर के पिता यश जौहर ने प्रॉड्यूस की थी मूल 'अग्निपथ', निर्देशन था मुकुल आंनद का। कवि हरिवंश राय बच्चन की कविता 'अग्निपथ' से ऊष्मा लेती हुई इस फिल्म में अमिताभ बच्चन ने खराश भरी आवाज वाले एंग्री हीरो विजय दीनानाथ चौहान का रोल निभाया था। ये कल्ट फिल्म बनी। उसकी हूबहू कॉपी या रीमेक बनने की बजाय ये नई 'अग्निपथ' उसे सही मायनों में ट्रिब्यूट देती है। इस फिल्म में न तो कृष्णन अय्यर एम.ए. (मिथुन चक्रवर्ती) हैं और न ही कई यादगार पल। मां की इज्जत पर हाथ डालने वालों के पेट्रोल पंप को आग लगाने वाला कजरारी आंखों वाला छोटा विजय, थाने में ईमानदार इंस्पेक्टर गायतोंडे (विक्रम गोखले) के सामने नाम-बाप का नाम-उम्र--गांव वगैरह वगैरह बताता हुआ छोटा विजय, घायल विजय को नारियल पानी के ठेले पर डालकर ले जाता हुआ कृष्णन अय्यर, उसके लुंगी ऊपर करने का अंदाज, अस्पताल में घायल विजय की हालत जानने को लेकर बाहर आपे से बाहर होती भीड़ और न जाने ऐसे कितने ही सीन। इस फिल्म में ये सब नहीं हैं। पर कोई बात नहीं, हम उन्हें इतना मिस नहीं करते। क्योंकि ये फिल्म अलग परिभाषा के साथ आती है।

शेव किए हुए सिर और भौंहों वाले संजय दत्त खौफनाक से कांचा चीना बने हैं।
'तुम क्या लेकर आए थे, तुम क्या लेकर जाओगे। रह जाएगा तो बस एक इंसान। सर्वशक्तिशाली सर्वशक्तिमान। कांचा...' जैसे डायलॉग में वो नहीं डायलॉग राइटर पीयूष मिश्रा बोलते से लगते हैं। संजय दत्त के लिए वह लिखते हैं, 'रामजी लंका पधार चुके हैं? पता करो वानर सेना तो साथ नहीं लाए?' इस कांचा चीना की सनक में हिंदी की शुद्ध डिक्शनरी खुलती लगती है। वह 'प्रबुद्ध' और 'सत्कार' जैसे आज कठिन हिंदी माने जाने वाले शब्दों का रोचक इस्तेमाल करता है। हिंदी फिल्मों और अखबारों से ऐसे शब्दों को आउटडेटेड कहकर हटाया सा जा रहा है, उनका इस्तेमाल बंद किया जा रहा है। ऐसे में पीयूष जाहिर करते हैं कि अगर चाहत हो तो इन शब्दों को योग्य रखा जा सकता है। फिल्म में कांचा विजय को राम, खुद को रावण और मांडवा को लंका बताता है, साथ ही उसकी बातों में महाभारत के संदर्भ भी आते हैं। कांचा चीना की भाषा में ये फ्रैशनेस पीयूष की देन है। बात लुक्स की करें तो मुझे वो 'एपोकलिप्स नाऊ' के कर्नल वॉल्टर (मर्लन ब्रांडो) की याद दिलाते हैं। उनका कूल माइंडेड मिजाज और शारीरिक अंदाज 'द डार्क नाइट' के जोकर (हीथ लेजर) सा है।

मांडवा की शक्ल-सूरत की बात करूं तो यहां आते-आते निर्देशक करण मल्होत्रा पर समकालीन अमेरिकी फिल्मों का असर साफ दिखता है। डेविड फिंचर और क्रिस्टोफर नोलान की फिल्मों के फ्रेम्स में जो गहरी सलेटी और गीली सी धुंध होती है, वो यहां खासतौर पर है। ये शायद करण के ही निर्देश थे, कि कांचा की मौजूदगी वाले सीन्स में अजय-अतुल जो पृष्ठभूमि संगीत देते हैं उस पर 'बैटमैन' और 'द डार्क नाइट राइजेज' का बैकग्राउंड स्कोर कंपोज करने वाले हांस जिमर का असर है। अनजाने में तो हो ही नहीं सकता है, जानबूझकर ही है।

ऋतिक रोशन अपने अभिनय में और गहन और जरीवर्क जितने बारीक हुए हैं। बहुत बार वो रुला जाते हैं। उनका अभिनय बहुत गंभीर और शानदार है। जैसे, अपनी छोटी बहन को जन्मदिन का गिफ्ट चुपके से देने जाना और सामने उसका आ जाना। वह पूछ रही है, 'भैया किसने भेजा है ये। बताइए न,
किसने भेजा है।' उसे नहीं पता कि ये उसका बड़ा भाई विजय है। तभी पीछे से मां आ जाती है, जिससे विजय की
बातचीत बंद है, बरसों से। अब वह खुद को डिलिवरी बॉय बताकर वहां से निकलने लगता है। संकरी सी गैलरी से उथले, बोझिल, कष्टभरे सीने को ले वह जब निकल रहा है तो उसका भीतर ही भीतर फट रहा दिमाग हमें थियेटर में फटता महसूस होता है। फिर चाल में सब उसे सरप्राइज देते हैं। गाना चलता है, 'गुन गुन गुना रे, गुन गुन गुना रे, गुन गुन गुना ये गाना रे'। शराब पिए लड़खड़ाते कदमों से वह खड़ा है और काली गौड़े उसे घेरकर तमाम चालवालों के साथ गा-नाच रही है। यहां भी आप विजय बने ऋतिक को देखिए। वह रुआंसे हैं और लगातार रुआंसे बने रहते हैं, पिछले सीन के कष्ट को बरकरार रखते हुए। तो उनके अभिनय के लिए फिल्म कुछ बार देखी जा सकती है।

मास्टर दीनानाथ के अग्निपथ कविता को पढ़ने और विजय के अपना परिचय देने के संदर्भ को इस फिल्म में अलग जगहों पर रखा गया है और बिना अमिताभ की खराश भरी आवाज के भी वो प्रभावी लगते हैं। ऋषि कपूर अलिफ मीट
एक्सपोर्ट की आड़ में छोटी-छोटी बच्चियों को बेचने वाले रौफ लाला को यूं निभाते हैं कि उनके बेटे रणबीर की रीढ़ में भी सिहरन दौड़ जाए। प्रियंका चोपड़ा का रोल छोटा पर कॉम्पैक्ट है। वह ठीक-ठाक हैं। छोटे विजय (अरिश भिवंडीवाला) और बहन शिक्षा (कनिका तिवारी) के रोल में दोनों चेहरे फ्रैश हैं। अरिश के बोलने का तरीका कुछ-कुछ बड़े होने पर ऋतिक कैसे बोलेंगे, इससे मेल खाता है। जो आश्चर्य रहा।

जरीना वहाब मां के रोल में अच्छी-अच्छी फिल्मों में पहली पसंद बनती जा रही हैं। उनके आंसू असली लगते हैं, एक्टिंग नहीं। जब रौफ के बाजार से विजय शिक्षा को बचाता है और रौफ को मार रहा होता है तो शिक्षा अपनी मां से बार-बार पूछ रही होती है, 'आई बताओ ना कौन है ये, बताओ ना आई।' और इसके बाद अप्रत्याशित रूप से सन्नाटा तोड़ते हुए जरीना गहराई तक बींध देने वाली चीख के साथ जवाब देती है, 'भाई है तेरा', इतनी जोर से कि हम भावनात्मक रूप से कांप जाते हैं। गायतोंडे के रोल में ओम पुरी ठीक-ठाक हैं, उनका किरदार बस कहानी को सहारा देता चलता है। मास्टर दीनानाथ चौहान बने चेतन पंडित आराम में दिखते हैं, उनका रोल छोटा सा है, उतना प्रभावी नहीं है जितना मूल अग्निपथ के मास्टर दीनानाथ चौहान का था।

टीवी के गट्टू यानी देवेन भोजानी यहां रौफ लाला के मैंटली चैलेंज्ड बेटे अजहर लाला बने हैं, कमजोर अदाकारी के साथ। कैसे अपराध की दुनिया के बड़े गुंडों की पर्सनल लाइफ दिखाने का सीधा फॉर्म्युला है, कि एक पापी किस्म का गुंडा है, उसका बड़ा बेटा बहुत गुस्सैल (अग्निपथ में रौफ लाला का गुस्सैल बड़ा बेटा मजहर लाला, जो राजेश टंडन अच्छे से बने हैं) है, कुछ-कछ बाप से बागी है, काम के अपने तरीके व्यापना चाहता है और छोटा बेटा मैंटली चैलेंज्ड है। जैसे कि डायरेक्टर शशिलाल नायर की 'अंगार' में था। इसमें मुंबई के अच्छे लेकिन बुरे भाई जहांगीर खान बने कादर खान थे। इनके बड़े बेटे माजिद (नाना पाटेकर) गुस्सैल और बाप के कामकाज के तरीकों से कुछ बागी हैं, तो घर पर एक छोटा भाई भी है जो चल फिर नहीं सकता, खुद खाना तक नहीं खा सकता, बोल नहीं सकता। तो ऐसी कुछेक और फिल्में हैं। डायरेक्टर जीवा की फिल्म 'रन' में भी गनपत चौधरी (महेश मांजरेकर) नाम के गुंडे के घर पर एक लूला किरदार है, जो चल नहीं सकता और बोल भी नहीं सकता, पर जब अभिषेक बच्चन का किरदार सिद्धार्थ जाह्नवी को भगा ले जा रहा होता है तो वह गाड़ी के आगे आ जाता है और उनको रोकने की कोशिश करता है। महेश मांजरेकर के निर्देशन में बनी 'कुरुक्षेत्र' में भी इकबाल पसीना (मुकेश ऋषि) के घर में ऐसा ही एक घुंघराले बालों वाला किरदार है, जो बोल नहीं सकता और कुछ मैंटली एब्सेंट है। जब एसीपी पृथ्वीराज सिंह बने संजय दत्त 'जंजीर' स्टाइल में इकबाल के मोहल्ले में उससे भिड़ने जाते हैं और लड़ते हैं तो मारपीट के दौरान वह किरदार खुद को बचता-बचाता दिखता है। 'अग्निपथ' पर लौटे तो करण मल्होत्रा के फिल्म बनाने के मिजाज में किसी बड़े अपराधी को और असल बनाने के दौरान ये मनोविज्ञान हावी रहा। रौफ लाला जैसे बच्चियों को बेचने वाले दरिंदे के घर एक अपंग बेटा देने का मनोविज्ञान। याने जितना बड़ा अपराधी और दरिंदा, उसके घर तमाम समृद्धि के बावजूद ईश्वर की लाठी उतनी ही जोर से बजती है। खैर, हम बात देवेन भोजानी की कर रहे थे, उनका काम फीका रहा है।

'अग्निपथ' देखते हुए बहुत बार आंखों में बूंदों की लड़ियां बनती हैं। खून रगों को चीरकर बाहर आने की कोशिश करता है। अरसे बाद तीन घंटे की फिल्म देख रहे होते हैं तो बैचेनी भरी शंका होती है कि अब तक इंटरवल नहीं हुआ, क्या कहीं फिल्म बिना ब्रेक के ही खत्म तो नहीं हो जाएगी? फिर तसल्ली होती है। विजय दीनानाथ चौहान भी उतना ही बड़ा गुंडा है, अपराधी है जितना कि कांचा चीना, पर उसके अपराधी होने की वजहें इतनी भारी इमोशनल हैं कि लोग उसके साथ होते हैं। आखिर में भी कोई दुनियावी अदालत उसे सजा न दे पाए इसलिए फिल्ममेकर्स ने उसका फैसला ईश्वर की अदालत पर छोड़ा, हमारी अदालत के हिस्से उसका हीरोइज्म ही आया, अपराध पक्ष नहीं।

*************
गजेंद्र सिंह भाटी

Saturday, January 14, 2012

सैंटा क्लॉज को क्रिसमस की सीख देता बच्चा आर्थर

फिल्म: आर्थर क्रिसमस (थ्रीडी)
निर्देशक: साराह स्मिथ
कास्ट: जिम ब्रॉडबेंट, ह्यू लॉरी, जेम्स मेक्वॉय, एश्ले जेनसन, रमोना मारकेज, बिल नाई
स्टार: तीन, 3.0
हफ्ते की एक बेहतरीन फिल्म। क्रिसमस की पूरी सद्भावना को कवर करती हुई और ह्यूमन इमोशंस को महत्ता देती हुई। आर्थर के रोम-रोम में इतना अपनत्व और प्यार भरा है कि क्लाइमैक्स तक गालों पर दो-तीन बूंदे लुढ़क ही जाती हैं। 'बैड सैंटा' से लेकर 'होम अलोन' जैसी दर्जनों फिल्में क्रिसमस के बहाने हमें अच्छा इंसान बनने और मुश्किलों का सामना करने की बात सिखाती हैं और उनमें सबसे साधारण कहानी वाली है 'आर्थर क्रिसमस'। कहानी में कुछ भी रोमांचक नहीं है, मगर डायरेक्टर साराह स्मिथ और मूवी का एनिमेशन इसे असाधारण बना देता है। और यहीं पर ये फिल्म बाकी क्रिसमस मूवीज से अलग लगने लगती है। ग्रैंड सैंटा की पुरानी बग्घी, ऐतिहासिक रेनडियर यानी बारहसिंगे और आसमान में उड़ाने वाली जादुई रेत दिल में धुकधुकी पैदा करते हैं। हर पल आपका मन करता है कि आर्थर के साथ-साथ चलें। जरूर देखें ये फिल्म और जरूर दिखाएं अपने बच्चों को।

'आर्थर क्रिसमस' के हीरो निश्चित तौर पर आर्थर, ग्रैंड सैंटा और एल्फ ब्रायोनी हैं। ग्वेन नाम की छोटी सी बच्ची तक उसकी पिंक साइकल का गिफ्ट पहुंचाने में तीनों जिन उतार-चढ़ाव से गुजरते हैं, वो पूरी जर्नी बड़ी मजेदार है। आर्थर का मासूम टेढ़ी स्माइल भरा चेहरा और उसके बल्ब जलते नकली आंखों वाले जूते उसे सबसे साधारण बनाते हैं, फिर जब वो हीरो बनता है तो हमें खुशी होती है। ग्रैंड सैंटा की नकली बत्तीसी, चिड़चिड़ा स्वभाव और मॉडर्न टेक्नॉलजी को कोसने का तरीका फिल्म में एक नमकीन फ्लेवर लाता है। उनके बड़बड़ाने को ध्यान से सुनिएगा, उसमें बड़े मजेदार डायलॉग हैं पर वो इतना तेजी से बोलते हैं कि कान से बातें स्लिप हो जाती हैं। गिफ्ट को रैप करने वाली ब्रायोनी आखिर तक डटी रहती है कि किसी भी गिफ्ट की रैपिंग में रत्तीभर भी कसर न रह जाए।

सैंटा के ज्यादा ईमानदार बेटे की कहानी
नॉर्थ पोल की सबसे खास रात है। क्रिसमस की रात। यहां के मौजूदा सैंटा हैं मैल्कम (जिम ब्रॉडबेंट)। उनका फौजी कमांडर सा बड़ा बेटा स्टीव (ह्यू लॉरी) सोच रहा है कि इस क्रिसमस तमाम बच्चों तक गिफ्ट पहुंचाने के मिशन के बाद मैल्कम रिटायर होंगे और वह सैंटा बनेगा। वहीं उसका छोटा भाई आर्थर (जेम्स मेक्वॉय) बहुत भला और प्यारा है। गिफ्ट पहुंचाने का मिशन पूरा होने के बाद जब हजारों एल्फ, सैंटा मैल्कम और स्टीव आराम करने चले जाते हैं तो गिफ्ट रैप करने वाली बटैलियन की ईमानदार सैनिक ब्रायोनी (एश्ले जेनसन) को एक साइकल मिलती है, पता चलता है कि दुनिया में एक बच्ची ग्वेन (रमोना मारकेज) तक गिफ्ट गलती से पहुंचा ही नहीं। इस स्थिति में जब सैंटा और स्टीव लापरवाही बरतते हैं तो सैंटा क्लॉज के प्रति बच्चों के विश्वास को कायम रखने के लिए आर्थर ये गिफ्ट ग्वेन तक पहुंचाने की ठानता है। इसमें उसकी मदद करते हैं उसके दादा,
मैल्कम के पिता और रिटायर्ड चिड़चिड़े 136 साल के ग्रैंड सैंटा (बिल नाई)।

****************
गजेंद्र सिंह भाटी

Friday, January 13, 2012

फिल्म ठीक से बनने ही नहीं दी घोस्ट ने

फिल्म: घोस्ट
निर्देशक: पूजा जतिंदर बेदी
कास्ट: शाइनी आहूजा, सयाली भगत, जूलिया ब्लिस, दीपराज राणा, तेज सप्रू
स्टार: एक, 1.0'घोस्ट' ने पूरी कोशिश की कि वह इंडिया की सबसे खौफनाक हॉरर फिल्म बने। डायरेक्टर पूजा जतिंदर बेदी ने इसमें अपने भूत को रामसे ब्रदर्स की फिल्मों वाला मेकअप भी करवाया। पीछे की ओर मुड़ी टांगों और 'घोस्ट राइडर' की तरह जले चेहरे के साथ उसे हाथों पर चलवाया। खौफ और घृणा ज्यादा से ज्यादा हो इसलिए काले-भूरे मेंढकों को लाश पर गिरा दिखाया, कबर्ड में से चढ़ते-उतरते काले कीड़े दिखाए, कसाई की दुकान पर टंगे मांस को कैमरे के सामने कटने दिया, शरीरों से धड़कते दिलों को बाहर गिरा धड़कता दिखाया और विदेशी एक्ट्रेस जूलिया ब्लिस को खून से सनकर जीसस क्राइस्ट की तरह क्रॉस पर लटकाया। और भी बहुत कुछ रहा जो हम पहले देख चुके हैं, मगर वो उतना ऑरिजिनल नहीं था, यहां तो बहुत बार शरीर से बाहर पड़े जिंदा दिल को देख लगता है कि ये तो असली है। शायद रहा भी होगा। हालांकि उसे नेगेटिव फोटो की तरह दिखाया जाता है।

तो हॉरर के मामले में जितनी चीजों की जरूरत होती है वह तो इसमें थी। बावजूद इसके मैं कहूंगा कि आने वाले दस साल में नई पीढ़ी इस फिल्म के खून-मांस को देखकर डरेगी कम और हंसेगी ज्यादा। हंसने का जहां तक सवाल है तो कहना चाहूंगा कि इस शहर में रात के आखिरी शो में किसी फिल्ममेकर को कोई सीरियस फिल्म नहीं रिलीज करनी चाहिए। क्योंकि उस वक्त मुंडे पूरी तरह हंसी के मूड में होते हैं। हर खौफ के वक्त वो कमेंट करते हैं, हंसते हैं और हंसाते हैं। एक इस कोने से बोलता है तो दूसरा दूसरे कोने से। पर इसकी एक वजह फिल्म का बड़ा कमजोर डायरेक्शन और स्क्रिप्ट रही। शुरू से लेकर आखिर तक सबकुछ बेतरतीब है। कौन भूत है? वह क्या चाहता है? डरें भूत से या फिल्म में दिखाए जा रहे मांस के लोथड़ों से? डिटैक्टिव विजय सिंह बने शाइनी आहूजा और डॉ. सुहानी बनी सयाली भगत एक सीन में घोस्ट पर सीरियस बातें कर रहे होते हैं तो अगले सीन में क्रूज पर और डिस्को में घटिया कोरियाग्रफी से भरा नाच नाच रहे होते हैं। शाइनी के लिए इस फिल्म में करने को कुछ नहीं था, तो उनके होने से फिल्म में कोई फर्क नहीं पड़ता है।

फिल्म के शुरू में सयाली को नए अस्पताल के कॉरिडोर में भटकते देख सबका ध्यान उसकी छोटी सी ड्रेस पर ही जाता है। अचरज होता है कि भला अस्पताल में ऐसे कपड़े पहनकर आने का क्या तुक। खैर, तुक की तो आप बात न ही करें। क्योंकि कहीं कोई किसी बात का तुक नहीं है। डायलॉग इतने घिसे-पिटे कि म्यूट करके देखें तो ज्यादा ठीक। म्यूजिक डायरेक्टर और सिंगर तोषी साबरी के गाने सुनकर लगता है कि भट्ट कैंप की फिल्मों के गाने सुन रहे हैं। पूरे दो घंटे ऐसे हैं जैसे किसी ने एक हॉरर फिल्म बनाने के लिए कच्चा माल जमा किया था और उसे एडिट करना और दिशा देना भूल गया। जाहिर बात है फिल्म को नहीं देखेंगे तो कुछ मिस नहीं करेंगे।
****************
गजेंद्र सिंह भाटी

Tuesday, January 10, 2012

अमेरिकी प्रपंच से दूर, एलियन हमले का नया केंद्र रूस

फिल्म: द डार्केस्ट आवर (अंग्रेजी)
निर्देशक: क्रिस गोराक
कास्ट: ऐमिल हर्श, मैक्स मिंघेला, रैचल टेलर, ऑलिविया थर्लबॉय, वरॉनिका ऑजरोवा, यूरी कुत्सेंको, जोएल किनामैन
स्टार: दो, 2.0नील ब्लॉमकांप के निर्देशन में बनी 'डिस्ट्रिक्ट 9', एलियन जीवों के धरती पर होने की अब तक की श्रेष्ठ फिल्म है। अकेली ऐसी फिल्म जिसमें चौंका देने वाले एंटरटेनमेंट के साथ बड़े गंभीर पॉलिटिकल और सोशल विमर्श भी सिमटे थे। सबसे खास बात थी कि पहली बार एलियन अमेरिका की बजाय दक्षिण अफ्रीका की जमीन पर उतरे। इसी लिहाज से निर्देशक क्रिस गोराक की 'द डार्केस्ट आवर' भी अलग होती है। इसमें भी परग्रही जीवों का हमला अमेरिका पर नहीं होकर रूस पर होता है। शायद इसलिए भी क्योंकि प्रॉड्यूसर तिमूर रूस से हैं। और शायद वो चाहते थे कि फिल्मों में ये घिसा-पिटा जुमला बदले। और एंटरनेटमेंट के इस एलियन प्रपंच की धुरी गैर-अमेरिकी, गैर-हॉलीवुडी हो। और हर बार दुनिया को एलियंस से बचाने वाले सिर्फ एक ही देश (अमेरिका) से न हों।

खैर, एलियन दिखेंगे कैसे? उनकी शक्तियां कैसी होंगी? वो इंसानों को नुकसान किस तरीके से पहुंचाएंगे? उनके आने का कारण क्या है? वो चाहते क्या हैं? और उनका मुकाबला कैसे किया जाए? ...इन सब सवालों के लिहाज से भी एलियन फिल्में एक-दूसरे से अलग हो सकती हैं। ये फिल्म अलग तो है, लेकिन जहां भी अलग है वहां संतुष्ट नहीं करती। मसलन, इसमें एलियन दिखते नहीं हैं, बस कुछ इलैक्ट्रिकल बिजली जैसी चमकीली रेखाओं जैसी आकृतियों में वो आए हैं और जिसे भी छूते हैं वो राख में तब्दील हो जाता है। ये दिखने में नई चीज है पर आखिर में जब हमें इन एलियंस का चेहरा दिखता भी है तो मजा नहीं आता। कुछ बचकाना सा लगता है।

फिल्म की एक बड़ी खामी ये है कि इसका कोई भी कैरेक्टर रोचक नहीं है। सीन (ऐमिल हर्श) फिल्म का हीरो है पर उसमें वैसी बात नहीं है। बेन (मैक्स मिंघेला) में वो बात है पर जिंदा नहीं रहता। एनी (रैचल टेलर) ग्लैमरस दिखने, सुबकने और डरने में ही अपना सारा वक्त बिता देती है। नटाली (ऑलिविया थर्लबाय) आखिर तक फिल्म में रहती है पर उन्हें देख बोरियत होती है। रूसी लड़की वाइका (वरॉनिका ऑजरोवा) इंट्रेस्टिंग लगती है पर इस किरदार पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया गया है। फिल्म में जब तरह-तरह की धातू और जाल से ढके घोड़े पर बैठे मातवेई (यूरी कुत्सेंको) और उनके साथियों की एंट्री होती है तो रूचि जागती है। पर तब तक फिल्म दूसरे किनारे तक पहुंच रही होती है।

तो एलियंस के प्रति किसी जिज्ञासा का न होना और कहानी में डायलॉग्स और इंट्रेस्टिंग किरदारों के स्तर पर बोरियत होना, फिल्म को कमजोर बनाता है। आप फिल्म देख सकते हैं, उसके साधारण होने में हो सकता है खूबियां भी पाएं, पर मोटा-मोटी दर्शकों को कुछ खास नहीं मिलता। मिली-जुली प्रतिक्रिया लेकर थियेटर से निकलेंगे। पर फिल्म बुरी नहीं है। एक बार ट्राई कर सकते हैं। एक बड़ी अच्छी बात आखिर में कही जाती है। रूसी सोल्जर सा दिखने वाला मातवेई जब बचे हुए उन लोगों को अमेरिका जाने के लिए पनडुब्बी तक पहुंचाता है और खुद अपनी मातृभूमि में ही रहकर मरना पसंद करता है तो बड़ा बदलाव नजर आता है। जो हमेशा फिल्मों में नहीं होता। मातवेई कुछ-कुछ यूं कहता है, 'मैं यहीं रुकूंगा। तुम जाओ और उन एलियंस से बचने का जो रास्ता तुमने यहां रहकर सीखा है वो बाकी मानवता को सिखाओ, ताकि वो भी लड़ सकें। सामना कर सकें।'

यूं होता है परग्रही हमला

सीन और बेन अमेरिका से रूस सोशल नेटवर्किंग के अपने आइडिया पर कोई डील करने आए हैं। दोनों जिंदगी में कुछ बनना चाहते हैं, सबकुछ हासिल करना चाहते हैं। पर जब वो तय जगह पर पहुंचते हैं तो पता चलता है कि स्काइलर (जोएल किनामैन) ने उन्हें धोखा दिया और अब वो दोनों इस योजना का हिस्सा नहीं हैं। रात किसी पब में बिता रहे ये दोनों वहां दो अमेरिकी लड़कियों एनी और नटाली से मिलते हैं। स्काइलर भी यहां होता है। तभी सारी बत्तियां चली जाती हैं और सब लोग सड़कों पर आकर देखते हैं कि आसमां से रंगीन तंतुओं और इलैक्ट्रिक किरणों सी कुछ चीजें गिर रही हैं। थोड़ी देर में सबको पता चल जाता है कि ये एलियन अटैक है। मानवता को अब इस अटैक से बचना है और इन किरदारों को भी।
*************
गजेंद्र सिंह भाटी

Monday, January 9, 2012

अब्बास-मुस्तानः अपनी औसत सी फिल्मों के प्लेयर्स

फिल्म: प्लेयर्स
निर्देशक: अब्बास-मुस्तान
कास्ट: अभिषेक बच्चन, नील नितिन मुकेश, ओमी वैद्य, बॉबी देओल, सोनम कपूर, बिपाशा बसु, जॉनी लीवर, विनोद खन्ना, सिकंदर खेर
स्टार: ढाई, 2.5भला अपनी फिल्म के लिए 'प्लेयर्स' जैसा सपाट नाम सोचने में अब्बास और मुस्तान बर्मावाला को कितना वक्त लगा होगा? कितनी रचनाशीलता लगी होगी? जबकि जिस फिल्म (द इटैलियन जॉब) की ऑफिशियल रीमेक 'प्लेयर्स' है, उसके नाम में ज्यादा जिज्ञासा है। इन डायरेक्टर भाइयों की फिल्ममेकिंग में भी ऐसी किसी रचनाशीलता की कमी हमेशा होती है। पूरा ध्यान विशुद्ध एंटरटेनमेंट देने पर होता है। अगर लीड एक्टर्स में कुछ है तो वो खुद अपनी एक्टिंग को एक्सप्लोर कर लेते हैं, लेकिन अब्बास-मुस्तान इस पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं। ये उनकी इस फिल्म को देखते हुए भी साफ नजर आता है। हमें एम्सटर्डम से लेकर रूस, न्यूजीलैंड और पूरे ग्लोब की सैर कराई जाती है। हीरो और विलेन के बीच खींचतान होती है। हीरोइन नाचती हैं, हीरो से प्यार करती है और इसके बाद भी कुछ वक्त मिल जाता है तो अपने पिता के गले लगकर रोती है। खैर, ये फिल्म एक्टिंग, कंसेप्ट और डायलॉग्स के मामले में बड़ी औसत है। कहीं कोई नएपन की कोशिश नहीं। पर कहानी और घुमाव-फिराव की वजह से देखने लायक हो जाती है। कहने का मतलब, दोस्तों को साथ टाइम अच्छे से पास हो जाता है। एक बार देख सकते हैं।

दस हजार का सोना कैसे लुटा
चार्ली मैस्केरेनस (अभिषेक बच्चन) और रिया (बिपाशा बसु) साथ मिलकर चोरी और ठगी करते हैं। पर जल्द ही चार्ली रूस में दस हजार करोड़ रुपये का सोना लूटने की योजना बनाता है। इस काम में खास काबिलियत वाले लोगों की टीम बनाने में वह अपने गुरु और जेल में बंद विक्टर दादा (विनोद खन्ना) की मदद लेता है। टीम बन जाती है। इसमें रॉनी (बॉबी देओल) भ्रमित करने वाला जादूगर है, रिया ऑटोमोबाइल एक्सपर्ट है, स्पाइडर (नील नीतिन मुकेश) हैकर है, बिलाल बशीर (सिकंदर खेर) विस्फोट विशेषज्ञ है और सनी (ओमी वैद्य) प्रोस्थैटिक्स या मेकअप विशेषज्ञ हैं। अब इन लोगों की इस बड़ी लूट में मोड़ तब आता है जब टीम का ही एक मेंबर धोखा दे देता है और पूरा सोना खुद ले जाता है। अब चार्ली को फिर से ये सोना लूटना है और खुद को सबसे बड़ा प्लेयर साबित करना है।

एक्टर और उनके कैरेक्टर
अभिषेक बच्चन: चार्ली के रोल में अभिषेक को एक सेकंड के लिए भी अपनी एक्टिंग स्किल्स को पुश नहीं करना पड़ता। वो कहीं कोई यादगार पल नहीं देते, क्लाइमैक्स में विलेन को अपनी लंबी-लंबी टांगों से मारने के अलावा।
नील नीतिन मुकेश: फिल्म में अभिनय के मामले में सबसे ज्यादा नील ही चमकते हैं। उनके किरदार स्पाइडर में कई परछाइयां हैं। जहां-जहां नील आते हैं, वहां फिल्म में थोड़ी जान आती है।
सिकंदर खेर: इस बंदे में संभावनाएं तो हैं, पर वो कभी अब्बास-मुस्तान बाहर नहीं ला सकते थे। पर चूंकि उनके डायलॉग कम हैं और रोल सीरियस, तो वह दमदार लगते हैं। ओमी वैद्य को उनका 'मेहरे' कहने का अंदाज अच्छा लगता है।
ओमी वैद्य: हालांकि अब उन्हें एक जैसे एक्सेंट और रोल में देख उबासी आती है, पर फिल्म में हम हंसी को तरस जाते हैं इसलिए ओमी यहां जो भी करते हैं वो हमें रिलैक्स करता है।
बॉबी देओल: रॉनी बने बॉबी का रोल बहुत छोटा है पर प्रभावी है। उनके लिए करने को न के बराबर था।
सोनम कपूर: सुंदर-सुंदर कपड़े और एक्सेसरी पहनने में ही उनका वक्त जाता है। पर चूंकि फिल्म में किसी को एक्टिंग करने जैसा कुछ करना ही नहीं था इसलिए क्या कहूं। हां, मूवी में रोने-धोने (नकली ही सही) के जो इक्के-दुक्के सीन हैं वो सोनम और बिपाशा के हिस्से ही आते हैं।
बिपाशा बसु: एक बिकिनी में समंदर से निकलने का सीन, एक गाना और बाकी टाइम हीरो लोगों के साथ फ्रेम में रंगत बनाए रखना, बिपाशा के रोल रिया के भाग्य में ढाई घंटे बस यही लिखा था।
विनोद खन्ना: दिखने में अब बूढ़े लगने लगे हैं विनोद खन्ना। विक्टर दादा के रोल में वो फिट लगते हैं, और बाकी बस निभा जाते हैं।
जॉनी लीवर: अपने टेलंट के लिहाज से जॉनी ने फूंक मारने जितना प्रयास भी नहीं किया है पर वो माहौल खुशनुमा बनाते हैं, पर मूवी में उनके सीन दो-तीन ही हैं।****************
गजेंद्र सिंह भाटी

Tuesday, January 3, 2012

भला, बुरा, भटका और उल्लेखनीयः सिनेमा वर्ष 2011

वो बारह महीने जो गुजर गए। वो जो अपने पीछे कुछ बड़े परदे के विस्मयकारी अनुभव छोड़ गए। वो जो ऐसे वीडियो पल देकर गए जो हमारे होने का दावा करते हुए भी हमारे लिए न थे। वो जो नुकसान की शुरुआत थे। वो जो धीरज बंधाते थे। वो जो सिनेमैटिकली इतने खूबसूरत थे कि क्या कहें, मगर पूरी तरह सार्थक न थे। वो बारह महीने बहुत कुछ थे। हालांकि मुख्यधारा की बातों में बहुत सी ऐसी क्षेत्रीय फिल्में और ऐसी फिल्में जो फीचर फिल्मों की श्रेणी में नहीं आती है, नहीं आती हैं, यहां भी नहीं है, पर कोशिश रहेगी की आगे हो।

अभी के लिए यहां पढ़ें बीते साल का सिनेमा। कुछ भला, कुछ बुरा, कुछ भटकाव को जाता और कुछ उल्लेखनीय। और भी बहुत कुछ।
****************
गजेंद्र सिंह भाटी