Friday, January 28, 2011

कॉमेडी यूज एंड थ्रो जैसी

फिल्मः दिल तो बच्चा है जी
डायरेक्टरः मधुर भंडारकर
कास्टः अजय देवगन, इमरान हाशमी, ओमी वैद्य, शहजान पद्मसी, श्रद्धा दास, श्रुति हसन, टिस्का चोपड़ा, रितुपर्णा सेनगुप्ता
स्टारः दो, 02


मेरे पास तीन लड़कों की इस कहानी को देखने की तीन वजहें थी। पहला इसका टाइटल जो मेरा ध्यान सीधे 'इश्किया' के खट्टे से गाने दिल तो बच्चा है जी... की ओर ले जाता है। दूसरा ये कि तीन बार नेशनल अवॉर्ड जीत चुके मधुर भंडारकर की ये पहली कमर्शियल कॉमेडी फिल्म है। तीसरा फिल्म की स्टार कास्ट। सीरियस और कॉमिक रोल के लिहाज से अजय देवगन को 'गंगाजल' के अनुशासित आईपीएस और 'गोलमाल' के गुस्सैल गोपाल से ही आंका जाता है, ऐसे में उन्हें एक दब्बू और शर्मीले लड़के नरेन बने देखना आकर्षित कर रहा था। 'थ्री इडियट्स' के बाद ओमी वैद्य की ये दूसरी मूवी थी और इमरान हाशमी किसी मल्टीस्टारर फिल्म में एक लाइट से रोल में नजर आ रहे थे। अब जब 'दिल तो बच्चा है जी' देख ली है तो इसे दोबारा देखने की ये तीन वजहें भी नहीं रह गई हैं। ये एक घटिया फिल्म नहीं है, पर कमर्शियल एंटरटेनर होने का दावा करती मधुर की ये फिल्म एंटरटेनमेंट देने में नाकाम रहती है। शुरू में स्टोरी और कैरेक्टर्स को जानने की जिज्ञासा होती है, पर बाद में बिना अच्छे डायलॉग और म्यूजिक के फिल्म का पेस धीमा बना रहता है। क्लाइमैक्स आते-आते फिल्म कुछ इंट्रेस्टिंग होती है कि अगले पंद्रह मिनट में थियेटर की एग्जिट लाइट्स जल जाती हैं। फ्रेंड्स के साथ एक बार जा सकते हैं, पर अल्टीमेटली ये एक यूज एंड थ्रो फिल्म ही रहती है।

बच्चे दिल की कहानी
कुछ भी अनोखा नहीं है कहानी में। इसके अंश आपने 'नई पड़ोसन', 'ढोल', 'एक्सक्यूज मी', 'स्टाइल' और 'गोलमाल' जैसी फिल्मों में देखे होंगे। तो झट पट मुद्दे की बात पर आते हैं। 38 साल के नरेन आहूजा (अजय देवगन) की एक जर्नलिस्ट वाइफ (रितुपर्णा सेनगुप्ता) और एक छोटी बेटी है। वैवाहिक जीवन टूट सा गया है, तलाक के पेपर दोनों ने फाइल कर रखे हैं। ऐसे में नरेन अपने खाली पड़े घर में रहने चला जाता है जहां उसके पेरंट्स रहते थे। घर की किश्त का खर्च निकालने के लिए वो दो पार्टनर रख लेता है। पहला है झटपट शादी डॉट कॉम में शादियां करवाने वाला मिलिंद केलकर (ओमी वैद्य) और दूसरा जिम ट्रैनर अभय सूरी उर्फ ऐबी (इमरान हाशमी). लव को लेकर नरेन शर्मीला है तो मिलिंद सिद्धांतवादी और अभय लड़की और पैसे पर जीने वाला। तीनों की लाइफ में प्यार का प्रोसेस अलग-अलग तरह से चलता है। नरेन मन ही मन अपने बैंक की इंटर्न जून पिंटो (शहजान पद्मसी) को चाहने लगा है। मिलिंद को रेडियो जॉकी गुनगुन (श्रद्धा दास) से प्यार हो गया है पर गुनगुन को फिल्मों में करियर बनाना है। अभय का अफेयर पहले अनुष्का नारंग (टिस्का चोपड़ा) के साथ चलता है फिर वो निकी नारंग (श्रुति हसन) को चाहने लगता है। क्लाइमैक्स में कहीं कुछ नयापन लगता है। ऐसे ही क्लाइमैक्स वाली एक अच्छी एंटरटेनिंग फिल्म है डेविड धवन की 'दीवाना मस्ताना।'

एडल्ट नहीं पर 'ए' सर्टिफिकेट
मूवी में मोटा-मोटी दो अडल्ट डायलॉग हैं, चूंकि प्रोमो में फिल्म को कुछ अलग दिखाने के लिए अजय-शहजान के बीच का एडल्ट डायलॉग ही दिखाया जाता है। इस खातिर इसका जिक्र जरूरी है। इनमें ये पहला तो प्रोमो में ही दिखता है। जून (शहजान पद्मसी) अपने बॉस नरेन (अजय) को अपनी एक दोस्त के बारे में कहती है, सर डू यू नो, शी जस्ट लॉस्ट हर वी। वी मतलब? वॉलेट! (नरेन) ...नहीं सर, वी मतलब वर्जिनिटी। दूसरा है इमरान हाशमी के कैरेक्टर को इंट्रोड्यूस करवाने का तरीका। परेश रावल का वॉयसओवर सुनाई देता है... ये है अभय। दोस्त इन्हें ऐबी कहकर बुलाते हैं। ये जिम ट्रैनर हैं। इनकी लाइफ में तीन एफ हैं। पहला फन, दूसरा फ्लर्टिंग और ...तीसरा तो आप समझ ही गए होंगे। इसके बाद फिल्म में कुछ भी एडल्ट जैसा नहीं है। वही कहानी। तीन दोस्त या दो दोस्त, लाइफ में आती गर्ल्स, पैदा होता आकर्षण, प्यार, इजहार और लड़का जीत जाता है या जाता है हार। हां, लड़का-लड़की स्वभाव में अलग हो सकते हैं। शर्मीला लड़का, बेशर्म लड़का, सिद्धांतवादी लड़का, एम्बीशस लड़की, तेज लड़की, स्वीट लड़की। ये सब कैरेक्टर हर दूसरी यंग रॉमैंटिक कॉमेडी में होते हैं।

कॉमेडी हो तो कैसी
तीन दोस्तों की कहानी पर बनी आज तक की सबसे खास फिल्म है 'चश्मे बद्दूर।' इसमें गुदगुदी भी है, कॉमेडी भी है, क्लासिक होने का तत्व भी है, फ्रैश स्क्रिप्ट-डायलॉग्स भी हैं और सिनेमैटिक जीनियस भी है। फारुख शेख, राकेश बेदी और रवि बासवानी के कैरेक्टर्स सिद्धार्थ, ओमी और जोमो के बीच जो रैपो और सिचुएशनल कॉमेडी बनती है वो यहां मधुर अपनी मूवी में रत्तीभर भी नहीं ला पाते। 'दिल तो बच्चा है जी' के शुरुआती क्रेडिट्स जब आते हैं तो तीनों दोस्तों के कैरिकेचर कुछ-कुछ टीवी सीरियल 'मालगुड़ी डेज' के स्केचैज की याद दिलाते हैं। उम्मीद बंधती है कि कुछ ताजी हंसी नसीब होगी। नहीं हो पाती। फिल्म के डायलॉग लिखे हैं संजय छैल ने। यकीन नहीं होता कि इन्हीं संजय ने कभी 'रंगीला' के डायलॉग लिखे थे और इन्हीं संजय ने कभी 'कच्चे धागे' जैसी कमर्शियल फिल्म लिखी थी। प्रीतम का म्यूजिक एक भी ऐसा गाना नहीं दे पाया जिसे पलटकर दोबारा सुनने का मन करे। मुझे निराशा हुई कि फिल्म 'जिस्म' के लिए बेहतरीन गीत लिखने वाले नीलेश मिश्रा ने अभी कुछ दिनों से... और ये दिल नखरेवाला... जैसे टाइमपास बोल वाले गाने लिखे हैं।

आखिर में...
'दिल तो बच्चा है जी' मधुर भंडारकर की सबसे कमजोर फिल्म है। आज भी उनकी पहली फिल्म 'चांदनी बार' ही उनकी बेस्ट फिल्म है। बाद में इसमें 'सत्ता' और 'पेज थ्री' जैसे नाम शामिल कर सकते हैं।
गजेंद्र सिंह भाटी

Friday, January 14, 2011

लवली देओल्स और कुछ कमियां

फिल्मः यमला पगला दीवाना
डायरेक्टरः समीर कर्णिक
कास्टः धर्मेंद्र, सनी देओल, बॉबी देओल, कुलराज रंधावा, नफीसा अली, सुचेता खन्ना, अनुपम खेर, मुकुल देव, पुनीत इस्सर
स्टारः ढाई 2.5


इस फिल्म पर लिखना मेरे लिए कुछ उलझन भरा रहा। उलझन इसके एंटरटेनमेंट को डिफाइन करने की। पंजाबी सेंटिमेंट्स वाली ऑडियंस के लिए 'यमला पगला दीवाना' एक फन राइड है। देओल फैमिली के फैन्स भी देखकर खुश होंगे। मगर ओवरऑल ये काफी कमियों वाली मूवी है। मुकेश ठाकुर की ढीली एडिटिंग और समीर कर्णिक का बिखरा डायरेक्शन 'यमला पगला दीवाना' में स्टोरीटेलिंग फैक्टर को मार देता है। कुछ देखने लायक रहता है तो मुकुल देव, सनी देओल और सुचेता खन्ना के निभाए कैरेक्टर। सनी वैंकूवर से आए परमवीर सिंह के रोल में मूवी को एक साथ थामे रहते हैं। बिल्ला के कैरेक्टर में मुकुल देव का ठेठ पंजाबी एक्ट और कैनेडा ड्रीम्स में खोई भोली के रोल में सुचेता इस फालूदा फिल्म में ताजगी ले आते हैं। पंजाबी ऑडियंस के लिहाज से मैं मूवी को साढ़े तीन स्टार दूंगा, मगर अपनी रेटिंग में ढाई स्टार रख रहा हूं।
कहानी क्या है?
परमवीर सिंह ढिल्लों (सनी) अपनी वाइफ मैरी (एमा ब्राउन गैरेट) और दो बच्चों के साथ वैंकूअर कैनेडा में रहते हैं। अपनी मां (नफीसा अली) की इच्छा पूरी करने और बीस साल पहले घर छोड़ गए पिता और छोटे भाई को खोजने वो बनारस जाते हैं। यहां भाई गजोधर (बॉबी) और पिता (धरम सिंह) मिल तो जाते हैं, पर दोनों अव्वल दर्जे के ठग हैं। इन्हें सही रास्ते पर लाना है और मां के पास ले जाना है। परमवीर की इस कोशिश के बीच गजोधर और साहिबा (कुलराज रंधावा) की लव स्टोरी है। साहिबा के भाई जोगिंदर (अनुपम खेर), बिल्ला (मुकुल देव), जरनैल (हिमांशु मलिक) और एक-दो दूसरे भाई हैं। मूवी थोड़ा-थोड़ा रुलाती है, पर क्लाइमैक्स समेत ज्यादातर टेंशन फ्री ही रखती है। कहानी से ज्यादा जोर टुकड़ों-टुकड़ों में बंटी हंसी पर ही रहता है।
इससे बेहतर डिजर्व करते हैं धर्मेंद्र
पल-पल न माने टिंकू जिया, इसक का मंजन घिसे है पिया... इस आइटम नंबर में धर्मेंद्र और बॉबी की एंट्री होती है। यहां धर्मेंद्र की प्लेसमेंट और उनका इस्तेमाल परेशान करता है। लंपट और लड़कियों के इर्द-गिर्द मंडराने वाले धरम सिंह से उस धर्मेंद्र को अलग करना मुश्किल हो जाता है, जिसे मूवी में देखने सब आए हैं। परमवीर सिंह, गजोधर और धरम सिंह भी असल में हमें सनी, बॉबी और धर्मेंद्र ही लगते हैं। तीनों को असली रिश्ते से अलग करके नहीं देख पाते हैं। धर्मेंद्र के कैरेक्टर को बिना लॉजिक डिवेलप किया गया है। धरम सिंह बुरे क्यों हैं? ये नहीं बताया जाता। बीवी को क्यों छोड़ देते हैं? नहीं बताया जाता। छोटे बेटे गजोधर को शराबी और अय्याश क्यों बना देते हैं? ये भी नहीं बताया जाता। शुरू से लेकर क्लाइमैक्स तक गजोधर यानी बॉबी धर्मेंद्र को ओए धरम तू बड़ा कमीना है यार... कहते दिखते हैं। ये कॉमिक अंदाज समझ में नहीं आता, न ही डायरेक्टर समीर इस लाइन का संदर्भ बताते हैं।
हैंडपप वाला हीरो जमा
मूवी में स्क्रिप्ट से ज्यादा देओल्स की फैन फॉलोइंग और जट फैक्टर काम करता है। तीनों देओल में सिर्फ सनी का कैरेक्टर ही थियेटर स्क्रीन पर खुद के 'सनी देओल' इम्प्रेशन को जी पाता है। वो हैंडपंप लेकर नाचते हैं तो भी लॉजिकल लगता है, जट रिस्की ऑफ्टर बाल्टी विस्की... डायलॉग बोलते हैं उस वक्त भी लॉजिकल लगते हैं। परमवीर सिंह का उनका कैरेक्टर भी इस इल्लॉजिकल मूवी में खरा लगता है। पूरी फिल्म में सनी के जितने भी एग्रेसिव होने वाले सीन आते हैं उनमें ऑडियंस को एड्रेनलिन रश होता है। उनके कुछ स्टंट्स सम्मोहित करने वाले हैं।
यमला पगला.. गाना और मूवी
प्रोमो में दिखने और सुनाई पडऩे वाले 'प्रतिज्ञा' फिल्म के गाने मैं जट यमला पगला दीवाना... से मूवी की कहानी का कोई लेना देना नहीं है। सोनू निगम इस रीमिक्स में मोहम्मद रफी वाली नक तो नहीं ला पाते, पर क्लासिक वेल्यू की वजह से ये गाना इस मूवी में भी एक्साइट करता है। फिल्मांकन में सनी 'जीत' फिल्म के यारा ओ यारा मिलना हमारा... के डांस स्टेप करते हैं, तो धर्मेंद्र कुछ नए और कुछ 'प्रतिज्ञा' के ही इस असली गाने के स्टेप दोहराने की कोशिश करते है। बॉबी के लिए बचते हैं उनकी पहली फिल्म 'बरसात' के डांस स्टेप्स।
कैरेक्टर्स कम-बेशी
इन ढाई घंटों में किसी को सीरियसली ले पाते हैं तो सिर्फ सनी देओल और मुकुल देव (गुरमीत उर्फ बिल्ला) को। जोगिंदर सिंह बने अनुपम खेर भी हमेशा की तरह अपने कॉमिकल कैरेक्टर को सही से निभा जाते हैं। गजोधर और धरम सिंह की तरह उनकी दाढ़ी नकली भी नहीं लगती। परमवीर सिंह के छोटे बेटे का 'डिट्टो' कहने का अंदाज थियेटर से बाहर आने के बाद भी याद रहता है। धर्मेंद्र और नफीसा अली की जोड़ी 'मेट्रो' मूवी के उनके कपल की याद दिलाती है। पर क्लाइमैक्स में उनके मिलने के सीन में फिल्ममेकर ने गंभीरता नहीं बरती। बीस-तीस साल बाद अपनी बीवी से मिल रहा एक दोषी पति कम से कम एक आंसू तो बहा ही सकता था। एमा ब्राउन और कुलराज रंधावा के यादगार रोल तो नहीं हैं, पर जरूरत जितना काम दोनों कर जाती हैं। भोली के किरदार में सुचेता खन्ना छाप छोड़ती हैं। कैनेडा की दीवानी भोली हूबहू 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' की प्रीति जैसी है। यहां आकर कहानी भी ऐसी ही हो जाती है। तीनों देओल का एक सीन जिसमें सनी शराब पी रहे बॉबी से उनकी मां के बारे में पूछते हैं और जवाब में बॉबी धर्मेंद्र को देखकर कहते हैं कि यही मेरी मां और बाप है। इस लिहाज से कि वो इसमें अपने पिता के सामने एक्ट कर रहे थे, बॉबी का ये फिल्म में बेस्ट सीन रहा।
असर भी होता है
'यमला पगला दीवाना' के शुरू में मजाक का पात्र बनते हैं मारवाड़ी (जानी लीवर), मारवाड़ी (भंवरलाल, धरम सिंह का एक फर्जी भेष) और नेपाली (एक बच्चा)। मुझे लगता था कि बॉलीवुड के फिल्ममेकर अब शायद समझदार हो चुके हैं और कम्युनिटी या राज्य विशेष को लेकर अब वो घिसे-पिटे मजाक नहीं करेंगे। पर यहां समीर कर्णिक मुझे गलत साबित करते हैं। मजाक में ही सही ये चलन अच्छा नहीं है। माना कि तेरी भेण दी... एक फनी पंजाबी मुहावरा सा है... पर वहां भी इसे बुरा ही माना जाता है। परमवीर के दो छोटे बच्चे इस मुहावरे को बोलते और लड़ते दिखते हैं तो उनकी गोरी मैम बीवी भी बीच-बीच में विदेशी एक्सेंट के साथ ये लाइन बोल जाती हैं। फिल्म-फिल्म में ये दोष भी मनोरंजन की सीरिंज में भरकर दर्शकों को इंजेक्ट कर दिया जाता है।
आखिर में...
पंजाब के मिर्जा-साहिबा की प्रेम कहानी का जिक्र है, जो स्क्रिप्ट में पहली इनोवेटिव चीज है। चढ़ा दे रंग... अच्छे बोल और अच्छे म्यूजिक वाला गाना है। फिल्मांकन में इसके कुछ शॉट बेहद खूबसूरत लगते हैं। धर्मेंद्र के लिखे इस गाने में कोरियोग्रफी तो खास नहीं बन पाई पर बोल हैं...कड्ड के बोतल डब्बे चो, जट मुंह नूं जग लावे, होये डफली बज्जे आपो आप, ते नशा सुरम चढ़ जावे।
गजेंद्र सिंह भाटी

Friday, January 7, 2011

नो वन... से साल की गुड शुरुआत

फिल्मः नो वन किल्ड जेसिका
डायरेक्टरः राज कुमार गुप्ता
कास्टः विद्या बालन, रानी मुखर्जी, मोहम्मद जीशान, माइरा, राजेश शर्मा
स्टारः तीन***

पोस्टर देखने से ये अंदाजा नहीं होता कि 'नो वन किल्ड जेसिका' किस किस्म का एंटरटेनमेंट है। एजुकेट करने वाला, एंटरटेनमेंट देने वाला, सिनेमैटिकली संतुष्ट करने वाला या फिर चटख एक्टिंग और मजबूत स्क्रीनप्ले की खुशी देने वाला। जब 2011 की जनवरी का पहला शुक्रवार आता है, तो जवाब मिल जाता है। 'आमिर' के बाद डायरेक्टर राज कुमार गुप्ता अपनी इस दूसरी मूवी में इन सभी पहलुओं में करीब-करीब जीत ही जाते हैं। मूवी को बढ़िया बनाने में उनका साथ देता है अमित त्रिवेदी का म्यूजिक और बैकग्राउंड स्कोर, आरती बजाज की बेदाग एडिटिंग और गौतम किशनचंदानी की कास्टिंग। ये सब परदे के पीछे के चेहरे हैं, पर असली चेहरे हैं। दिल्ली का जेसिका लाल मर्डर केस 1999 से 2010 तक चला। इतने बड़े दायरे को सवा दो घंटे की मूवी में भी समेटना है और उसमें फैक्ट-फिक्शन मिलाकर दिखाना है, ये संभव हुआ गौतम की कास्टिंग चॉयस की वजह से। थियेटर से घर अगर साथ कुछ ले जाते हैं तो वो यादें, रानी मुखर्जी और विद्या बालन नहीं देती हैं। वो यादें मिलती हैं माइरा (जेसिका), मोहम्मद जीशान अयूब (मनीष भारद्वाज) और राजेश शर्मा (इंस्पेक्टर एन.के.) के परफॉर्मेंस में। मूवी में काफी एफ.. वर्ड हैं, ऐसे में फैमिली के साथ जाना न जाना आपकी मर्जी पर है, हां.. दोस्तों के साथ सौ फीसदी जाएं। शानदार फर्स्ट हाफ, कुछ कमजोर सेकंड हाफ और कुल मिलाकर बढ़िया मूवी।

तो किसने मारा जेसिका को?
पोकरण में परमाणु परीक्षण हुए ही हैं, मीरा गैती (रानी मुखर्जी) एक रिपोर्टर के तौर पर अपने पहले बड़े असाइनमेंट करगिल वॉर के बारे में बता रही हैं। कहती हैं कि '1999 में करगिल की तोपें अभी शांत नहीं हुर्इं थी कि देश की राजधानी दिल्ली में एक फूट पड़ी।' इशारा है दिल्ली की मॉडल जेसिका लाल (माइरा) की ओर। मीरा कहानी कहती चलती है। सोशलाइट मल्लिका सहगल (बबल्स सब्बरवाल) के रेस्टोरेंट 'केनोज' में 29 अप्रैल 1999 को यहां की गेस्ट बारटेंडर जेसिका को गोली मार दी जाती है। मारने वाला हरियाणा सरकार की केबिनेट में मंत्री प्रमोद भारद्वाज (शिरीष शर्मा) का बेटा मनीष भारद्वाज (मोहम्मद जीशान) है। जेसिका की बहन सबरीना (विद्या बालन) रोते-बिलखते अपनी बहन के हत्यारों को न्याय दिलाने की ठान लेती है, पर एक-एक करके उसकी मुश्किलें बढ़ती रहती हैं। जेसिका का दोस्त और प्रमुख चश्मदीद गवाह विक्रम जयसिंह (नील भूपलम) बयान से मुकर जाता है। बाद में मूवी में मीरा की फुल एंट्री होती है और जाना-पहचाना क्लाइमैक्स उभरता है। मूवी का ट्रीटमेंट, डायरेक्शन और बड़ी सी कास्ट के नए चेहरे फिल्म को फ्रैश बनाए रखते हैं।

काट कलेजा कमियां
'आईसी 814' के कंधार हाइजैक वाले सीन में रानी के न्यूज पढ़ने का सीन रद्दी क्वालिटी का है। उन जैसी एक्ट्रेस से इतनी सतही एक्टिंग की उम्मीद नहीं थी। सिगरेट पीती, न्यूजरीडिंग करती, एफ..वर्ड बोलती, खुद को बिच कहती रानी इन सीन में ठीक तो लग सकती हैं, पर अपने रोल में वो खुद की तरफ से कुछ भी एैड नहीं कर पाई हैं। मूवी 'ए' सर्टिफिकेट से पास हुई है इसलिए हम करगिल से लौट रही मीरा गैती के मुंह से प्लैन में ..वहां होते तो गां** फट के हाथ में आ जाती... सुनते हैं। इनके गालियों के इस्तेमाल से एक बोल्ड सा कैरेक्टर ऑडियंस के आगे उभरने लगता है। पर जैसे जे.पी. दत्ता की 'एलओसी' में बिना कनविंस किए मां-बहन की गालियां बोलते बॉलीवुड के सोल्जर अनफिट लगे, ठीक वैसे ही इसमें हर जगह इस्तेमाल करती मीरा यानी रानी भी लगीं। फिल्मी एंटरटेनमेंट के रास्ते गालियों को ऑडियंस समाज के बीच ऑफिशियल करने की इतनी जरूरत थी भी नहीं।

बारीक मेहनत
मूवी में बारीकियों का इतना ध्यान रखा गया है कि केस के शुरुआतों दिनों में न्यूज चैनल की स्क्रीन बार पर सेंसेक्स 3,128 पॉइंट पर दिखता है। कोर्टरूम ड्रामा का जितना हिस्सा भी है बिल्कुल असली है। कोर्टरूम की बेंच-कुर्सियां-ट्यूबलाइट, वकीलों का टेंस करने वाला अंदाज और जज साब की चुप्पी, ये सब चीजें मेनस्ट्रीम मूवीज में बहुत ही कम ऐसे दिखती हैं। इनके लिए ज्यादातर सेट्स का ही इस्तेमाल किया जाता है, यहां राजकुमार गुप्ता ऐसा नहीं करते। कोर्टरूम की टेंशन और उमस एंटरटेनिंग तरीके से याद आती है तो 'मेरी जंग' और 'दामिनी' से। 'शौर्य' की भी याद आती है, पर मैं उसकी जगह 'अ फ्यू गुड मैन' को याद करना चाहूंगा। एनडीटीवी का पुराना लोगो, पुराने ऑफिस की बिल्डिंग, अंदर का व्यू और वहां पड़े तब के जमाने के पीसी मूवी को ऑथेंटिक फील देते हैं।

डायलॉग की बात
बेटे मनीष को सजा से बचाने के लिए घर पर अंकल लोग बात कर रहे हैं, रेफरेंस है जेसिका केस से जुड़े असली वकीलों का, अंदाजा लगाइए कौन है। डायलॉग है ..भाई साहब, बी. एल. पंडित को ले लेते हैं। 50 पर्सेंट सक्सेस का रिकॉर्ड है। और वो दूसरा 100 पर्सेंट रिकॉर्ड वाला? सुरेश दुलाऩी। अरे अब वो केस नहीं लेता।.. जेसिका लाल बनी माइरा की एक्टिंग शुरू के सीन में 'हजारों ख्वाहिशें ऐसी' की चित्रांगदा सिंह की याद दिलाती है। मूवी का दूसरा बेस्ट डायलॉग उनके हिस्से आया है। सड़क किनारे जेसिका-सबरीना जा रही हैं। पास से गुजरी बाइक पर पीछे बैठा आदमी सबरीना पर हाथ मारता है और जेसिका उसके पीछे दौड़ती है, उसे पकड़कर पीटती है और उस आदमी के माफी मांगकर भाग जाने के बाद सबरीना से कहती हैं ... भेंजी तू भेन्जी ही रहेगी, लड़ना सीख। ये दिल्ली है दिल्ली, आज छूकर गया है, कल रेप करके जाएगा.... माइरा की ये इंटेंस डायलॉग डिलीवरी खास है। मनीष भारद्वाज के कैरेक्टर का एक डायलॉग कल्ट है। उसके बोलने का अंदाज मोहम्मद जीशान के डायलॉग पर किए अपने काम को दर्शाता है। '...सर, सर गुस्सा आ गया था मुझे। हजार रुपए तक देणे के लिए तैयार था मैं, वो फिर भी ड्रिंक्स देणे के लिए मना कर रही थी सर। .... फिर ? ...फिर मैंने पिस्टल निकाल ली।' सिंपली ब्रिलियंट। मनीष की मां के कैरेक्टर में एक्ट्रेस का बार-बार पति से कहना... कुछ भी हो जी, मेरे मोनू को कुछ नहीं होना चाहिए.. फनी तरीके से ही सही, ज्यादातर माओं की अंधी ममता को अच्छे से साथ लेकर चलता है।

अमित त्रिवेदी का ढिंचेक-ढिंचेक म्यूजिक
फिल्म की आधी जान है अमित का म्यूजिक। अमिताभ भट्टाचार्य के लिखे गाने पूरे वक्त फ्रैश रखते हैं। टेंस इश्यू होने के बावजूद मूवी में आप टेंस नहीं होते, बल्कि अपनी रगों में एंटरटेनमेंट और स्टोरीटेलिंग को फील करते हैं। कैमरे से फिल्माई किसी औसत वीडियो फुटेज को सिनेमा में तब्दील करने का मुश्किल काम यहां म्यूजिक और बैकग्राउंड स्कोर करता है। कुछ-कुछ क्लासिक सा फील मिलता रहता है।
# ये पल, जो हैं वो हादसे हैं... बहुत ही सॉफ्ट और मार्मिक गाना है।
# आली रे साली रे... की बेस्ट लाइन है.. जिसकी लुगाई बणेगी रे भाई, उसकी तबाही, पेपर में छपेगी हट!
# मेरा काट कलेजा दिल्ली, मुई दिल्ली ले गई... में दिल्ली की बारी भी काफी पहले आ जाती है। प्रगति मैदान के हनुमान मंदिर से लेकर आईएसबीटी तक, कालकाजी से लेकर पुरानी दिल्ली तक... रिक्शेवाले, ऑटोवाले, पानीवाले... सब इस एक गाने में सिमट आते हैं और मूवी का बेस तैयार कर देते हैं। इन शुरुआती तीन मिनटों में दर्शक को सीरियस हो जाना पड़ता है।
# जार जार हुआ एतबार, टुकड़े हजार हुआ एतबार... मूवी के एक हिस्से को एक्सप्लोर करता है। केस के मजबूत विटनेस पुलिस को दिए अपने बयान से कोर्ट में पलट गए हैं। एक कमजोर बहन सबरीना का एतबार टूट गया। अब वो दिल्ली की सड़कों पर से इन इमोशंस के साथ गुजर रही है। एक रुपए की पानी की गिलास पीते हुए, डीटीसी की बस में लटककर चलते हुए, राह पर हाथी से टकराते हुए। इन्हीं भावों को आगे बढ़ाती गाने की एक लाइन देखें... झुलसी हुई रुह के, चिथड़े पड़े बिखरे हुए.. उड़ती हुई उम्मीद, रोंदे जिन्हें कदमों तले।
गजेंद्र सिंह भाटी